सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं।फ्री सस्ती लड़कियों का चक्कर

फ्री में सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं या किराए पर सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं ढूंढ रहे हैं तो सावधान हो जाइए। हम आपको यहां पर फ्री में सबसे सस्ती लड़कियां मिलने और उसके पीछे का पूरा सच बताएंगे साथ ही आपको यह भी बताएंगे कि यदि आप वास्तव में शादी के लिए या जीवनसाथी के रूप में लड़की चाहते हैं तो वह कैसे मिलेगी?

दोस्तों बहुत सारे लोग फ्री में या सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं के ढूंढने के चक्कर में बर्बाद हो गए हैं परंतु आपके साथ ऐसा ना हो इसलिए हम यहां पर यह रियल पोस्ट लेकर आए हैं जिससे आपको जानकारी हो सके कि इन सब के पीछे वास्तविकता क्या है?

सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं। फ्री में या मौज मस्ती के लिए सबसे सस्ती लड़कियां ढूंढने चले हैं तो हम बताएंगे कैसे चलता है यह गोरख धंधा?

सबसे सस्ती लड़कियां

यदि आप शादी विवाह के लिए या फिर अपना समय बिताने के लिए लड़कियां ढूंढ रहे हैं तो यह काम सावधानी से करें क्योंकि कई बार सेक्स टार्जन या हनी ट्रेप के मामले में फंसकर व्यक्ति अपनी जान तक गवा रहे हैं। उनको न तो फ्री में या सबसे सस्ती किराए पर लड़कियां मिलती हैं बल्कि वे एक जाल में फंस जाते हैं।

यदि आप वास्तव में किसी लड़की की तलाश कर रहे हैं जो आपका साथ दे सके सुख-दुख में आपकी भागीदार बन सके या फिर आपको दोस्त की तरह बिहेव करके रियलाइज कर सके तो उसका भी सॉल्यूशन हम आपको बताएंगे।

पहले आप यह जान लीजिए कि फ्री में सबसे सस्ती या किराए की लड़कियां किस तरह से आपको धोखा देती हैं और आपको जाल में फंसा कर बर्बादी की कगार पर पहुंचा देती हैं।

फ्री में सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं

हम सभी सोशल मीडिया का यूज करते हैं और आज इंटरनेट के जमाने में गांव से लेकर शहर तक अनपढ़ से लेकर अच्छा खासा पढ़ा लिखा आदमी डॉक्टर इंजीनियर पीएचडी होल्डर तक अनजाने में इस जाल में फंस जाते हैं।

फ्री में या सस्ती लड़कियां आपको मौज मस्ती करने के लिए या किराए पर चाहिए तो बहुत सारी प्राइवेट एस्कॉर्ट सर्विस है जो इस तरह का काम करते हैं और इंटरनेट पर या सोशल मीडिया पर बहुत सारी ऐसी वेबसाइट के लिंक आपको मिल जाएंगे जहां से आप फ्री या सस्ती लड़कियां प्राप्त कर सकते हैं।

परंतु यह भी जान लीजिए कि इनके पीछे पूरा एक आपराधिक गिरोह सक्रिय है जो आपको फ्री में मौज मस्ती करने के लिए लड़कियां उपलब्ध करवाने का झांसा देकर आपको एक जाल में फंसा लेता है और फिर शुरू होती है ब्लैकमेलिंग।एक अंतहीन ब्लैकमेलिंग जो कभी रुकती नहीं और आपको लगातार लूटा जाता है।

फ्री में लड़कियां प्राप्त करने के चक्कर में अच्छा खासा आदमी अपनी इज्जत गवां बैठता है और इन लुटेरों के जाल में पड़कर ब्लैकमेल होकर अपना सारा धन लुटने के बाद भी इनसे पिंड नहीं छुड़ा पता है और अंत में उसके सामने आत्महत्या के अलावा कोई चारा नहीं रहता।

ऐसे गिरोह में शामिल लड़कियां कभी खुद को बहुत गरीब जरूरतमंद बनाकर पेश करती हैं तो कभी खुद को आज़ाद ख्याल अमीर घर से संबंधित बहुत पैसे वाली बनाकर पेश करती हैं।

सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं

यह मौज मस्ती या सेक्स के लिए फ्री में लड़कियां या किराए पर सस्ती लड़कियां उपलब्ध कराने वाला गिरोह किस तरह से काम करता है, यह भी आपको बताएंगे परंतु सबसे पहले जान लीजिए कुछ सच्ची घटनाएं।

नितिन एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता है और खाली समय में फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया पर समय व्यतीत करता है। एक दिन उसे एक लड़की की फ्रेंड रिक्वेस्ट आती है वह प्रोफाइल देखकर फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार कर लेता है।

दोनों धीरे-धीरे एक दूसरे की पोस्ट को लाइक करते हैं और मैसेज का आदान-प्रदान होता है। जब दोस्ती कुछ गहराती है तो दोनों एक दूसरे के फोन नंबर शेयर कर लेते हैं और दोनों में बातचीत प्रारंभ होती है।

नितिन को लगता है कि लड़की स्मार्ट है और उसके विचारों की कद्र करती है। धीरे-धीरे दोनों अपनी फोटो शेयर करने लगते हैं और बातचीत का समय बढ़ता चला जाता है।

धीरे-धीरे सामान्य बातचीत के अलावा दोनों में अंतरंग बातें होने लगते हैं और दोनों फेसबुक और व्हाट्सएप पर लाइव कॉल करने लगते हैं। यह सिलसिला यहीं पर नहीं थमता बल्कि दोनों एक दूसरे को ‘मिस यू’आई लव यू या आपके बिना मेरा मन नहीं लगता कहकर एक दूसरे से नजदीकियां बढ़ाते हैं और एक दिन….

आधी रात को कॉल करते समय नितिन और वह लड़की भावुकता में आकर लाइव एक दूसरे के शरीर के अंतरंग अंगों को देखने की इच्छा जाहिर करते हैं। जाहिर सी बात है दोनों तरफ से सहमति थी इसलिए दोनों लाइव अपने कपड़े उतार कर मस्त मूड में आ जाते हैं।

फिर तो यह सिलसिला चल निकलता है और जब भी ऑनलाइन दोनों लाइव होते हैं न्यूड होकर मस्ती करने लगते हैं।

फिर एक दिन अचानक लड़की का फोन बंद आता है और नितिन के पास मैसेज आता है कि आप दोनों की न्यूड वीडियो रिकॉर्ड हो गई हैं और यह जल्दी ही सोशल मीडिया के जरिए आपके दोस्तों परिवार और रिश्तेदारों को भेज दी जाएगी।

अब लड़की गायब है और नितिन और उस लड़की के अंतरंग ऑनलाइन वीडियो नितिन के नंबर पर भेजे जाते हैं और साथ ही डिमांड की जाती है कि यदि इन्हें हटवाना है तो₹25000 तुरंत ऑनलाइन इस नंबर पर सेंड करो।

साथ ही धमकी दी जाती है कि यदि रुपए नहीं भेजे तो यह सारी वीडियो और फोटो नितिन के दोस्तों रिश्तेदारों माता-पिता बहन सबको भेज दी जाएगी और सोशल मीडिया पर अपलोड कर दी जाएगी।

मरता क्या नहीं करता? नितिन अपनी जान छुड़ाने के लिए₹25000 उस दिए गए नंबर पर भेज देता है परंतु यहीं पर बात खत्म नहीं होती यहां से सिलसिला शुरू होता है।

अब नितिन को बार-बार कई-कई नंबरों से फोन किया जाता है और रुपए भेजने की डिमांड की जाती है। नितिन अपने सारे रुपए भेजने के बाद कर्जा लेकर भी ब्लैकमेलर को रुपए भेजता है परंतु पिंड नहीं छुड़ा पता।

अंत में वह डिप्रेशन में आ जाता है और रात दिन यही सोचता रहता है कि यदि यह वीडियो उसकी बहन या माता-पिता देख लेंगे तो क्या होगा। वह उस ब्लैकमेलर के सामने रोता है गिड़गिड़ाता है परंतु वह बार-बार रुपए भेजने को कहता है और नितिन को धमकी देता है।

अंत में डिप्रेशन में आकर नितिन एक दिन दोपहर में घर आता है और बिना किसी से कुछ बोले अपने कमरे में बंद हो जाता है और गले में फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर लेता है।

अब घर में मातम का माहौल। पुलिस जांच इंक्वारी और नितिन के मोबाइल की डीटेल्स देखकर सबको पता लगता है कि नितिन हनी ट्रैप के जाल में फंसा था और ब्लैकमेलर के बार-बार परेशान करने पर उसने आत्महत्या कर ली।

नितिन अकेला ऐसा नहीं है बल्कि ऐसे हजारों लोग हैं जो इस जाल में फंसकर अपना तन मन धन सब कुछ गवा चुके हैं और अंत में नतीजा खतरनाक ही निकलता है।

नितिन को क्या करना चाहिए था?

ऐसा अकेला नितिन नहीं है बल्कि बहुत सारे युवा इस तरह से आकर्षित हो जाते हैं और जाल में फंस जाते हैं। अपनी इज्जत मान मर्यादा और परिवार में हैसियत को देखते हुए वह पैसे देकर पिंड छुड़ाना चाहते हैं परंतु ब्लैकमेल करने वाले ने आज तक कभी किसी को नहीं छोड़ा।

केवल साधारण व्यक्ति ही नहीं बल्कि बहुत से प्रॉपर्टी डीलर राजनेता और अच्छी हैसियत वाले लोग भी ऐसे जाल में फंस जाते हैं क्योंकि अपराधी गिरोह पैसे वाले और इज्जतदार व्यक्ति को ही टारगेट करता है।

नितिन को पहले दिन ही ब्लैकमेलर की बात सुनकर उसकी डिमांड पूरी करने के बजाय अपने दोस्त या किसी खास व्यक्ति को सारी घटना बता देनी चाहिए थी और तुरंत संबंधित थाने में इसकी शिकायत दर्ज करवानी चाहिए थी। भले ही इसके लिए थोड़ी बदनामी झेलनी पड़ती परंतु बात आत्महत्या तक नहीं पहुंचती।

पुलिस साइबर क्राइम के तहत यह केस दर्ज करती और उन अपराधियों का पता लगाने की कोशिश करती परंतु किसी भी हालत में वह अपराधी उसके न्यूड वीडियो पुलिस में शिकायत दर्ज होने के बाद किसी को नहीं भेजते और गायब हो जाते।

क्योंकि अपराधियों का दिल इतना ही होता है जब उनकी जान पर बन आती है तो वह खुद छुप जाते हैं। उनका मकसद डराकर पैसे वसूलना होता है परंतु वे खुद भी भीतर से डरे हुए होते हैं जब मामला पुलिस तक चला जाए।

इसलिए ऐसे किसी भी मामले में ब्लैकमेल लड़की यह उनके साथियों की डिमांड पूरी करने की बजाय उसे धमकाकर उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने की बात करें और हकीकत में इसकी शिकायत तुरंत करें जिससे वह आपके वीडियो को फैला ना सके।

अब केस नंबर दो मौज मस्ती के लिए फ्री लड़कियां का सच

यह जयपुर की घटना है। अनिल सरकारी नौकरी में था और अच्छा खासा वेतन मिल रहा था परंतु वह रूम पर अकेला रहता था और घर वालों से दूर था। ऐसे ही सोशल मीडिया पर खोज करते हुए उसे कोई लिंक प्राप्त हो गया।

कोई अनुराधा नाम की लड़की थी जो कुछ पैसों में किसी के भी साथ रात बिताने को तैयार थी। अनिल ने उसको मैसेज सेंड किया जवाब में तुरंत रिप्लाई आया और अनिल ने उससे मिलने की इच्छा जताई।

अनुराधा ने उससे मिलने के लिए हामी भर दी परंतु कहा कि वह लाचार है और उसके कमरे पर नहीं आ सकती क्योंकि उसके घर वाले उसको आने की इजाजत नहीं देते। उसने कहा कि वह कॉलेज टाइम में आ सकती हैं परंतु बाहर कहीं मिलने के लिए।

दोनों बातचीत में निर्धारित करते हैं कि किसी सुनसान जगह पर मिला जाए जहां कोई उनको देख न सके। अनुराधा अपनी इज्जत परिवार और हैसियत के बारे में बात कर कहती है कि वह खुलेआम आपसे नहीं मिल सकती इसलिए किसी सुनसान जगह पर मिल जाए।

दूसरे दिन अनिल अनुराधा के कहे अनुसार जयपुर से बाहर किसी सुनसान इलाके में मिलने का प्लान बनाता है और वह उसको कॉल करके कहता है कि वह या तो वहां पर आ जाए या वह रास्ते में उसको ड्राप कर लेगा।

अनुराधा ने कहा कि वह किराए पर टैक्सी लेकर के बताएं स्थान पर पहुंच जाएगी। दोनों ने समय का आदान-प्रदान भी कर लिया।

दूसरे दिन अनिल अपनी गाड़ी लेकर अनुराधा के बताए गए स्थान पर पहुंच जाता है परंतु वहां पर उसको कोई दिखाई नहीं देता। तभी अनुराधा का फोन आता है और वह कहती है कि वह आगे सुनसान जगह पर है जहां पर कोई आता जाता नहीं है।

अनिल मन में खुश होते हुए गाड़ी आगे बढ़ा देता है और कुछ सुनसान जगह पर रोकता है जहां अनुराधा ने मिलने का वादा किया था परंतु यह क्या….

तभी पीछे से एक बोलेरो गाड़ी आती है और उसमें से 4-5 लोग उतरकर अनिल की तरफ बढ़ते हैं। वह बिना कुछ कहे अनिल को मारने पीटने लगते हैं और उससे उसका पर्स मोबाइल रुपए और जो कुछ उसने सोने की चेन अंगूठी आदि पहन रखी थी सब लूट लेते हैं।

सब कुछ लूट कर वे लुटेरे फरार हो जाते हैं और अनिल अपनी जान बचाकर वापस घर आता है परंतु इस घटना के बारे में किसी को कुछ कह नहीं पाता और जब वह अनुराधा से संपर्क करता है तो उस तरफ से कोई रिएक्ट नहीं।

जयपुर और भरतपुर में ऐसे कैस हमेशा होते रहते हैं जहां पर किसी लड़की के द्वारा झांसा देकर सुनसान जगह पर बुलाया जाता है और उसके साथ लूटपाट की जाती है। लुटा हुआ व्यक्ति अपनी बदनामी के डर से पुलिस में भी शिकायत नहीं करता और ऐसे एक नहीं हजारों कैसे हुए हैं।

इन बदमाश अपराधी गिरोह का लूटने का तरीका अलग-अलग होता है। कभी यह ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करवा कर लूटते हैं तो कभी लड़की के बहाने सुनसान जगह पर बुलाकर व्यक्ति को लूटते हैं और उसके साथ मारपीट भी करते हैं।

आप अखबार में या ऑनलाइन पढ़ते होंगे। इसमें एक पूरा गिरोह सक्रिय है और यह फेसबुक इंस्टाग्राम व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया से यह काम आसानी से कर लेते हैं। पुलिस भी इन तक नहीं पहुंच पाती क्योंकि इनका शिकार हुआ व्यक्ति बदनामी के डर से उनकी शिकायत ही नहीं करता।

पिछले दिनों बहुत सारी ऐसी घटनाएं हुई हैं जहां लोगों को ऑनलाइन लिंक भेज कर उनके साथ न्यूड वीडियो बनाई गई और फिर बाद में ऐसे वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर करने की धमकी गई दी गई तथा डिलीट करने के बहाने उनसे रकम मांगी गई।

अपराधी ऐसे में ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करवाना ही ज्यादा सुरक्षित मानते हैं जब एक बार आप ट्रांजैक्शन कर देते हैं तो फिर वह बार-बार पैसे की डिमांड करते हैं। इसका कोई अंत नहीं होता और अंत में उनका पैसा देते देते आदमी कंगाल हो जाता है उधार लेता है और डिप्रेशन में आकर व्यक्ति आत्महत्या जैसा कदम उठाता है। बदनामी के डर से वह किसी को अपने साथ हुई घटना के बारे में बताता भी नहीं है।

इस प्रकार के अपराधिक गिरोह के निशाने पर सामान्य व्यक्ति से लेकर प्रॉपर्टी डीलर, समाजसेवी बड़े-बड़े वकील राजनेता और समाज में प्रतिष्ठा वाले लोग होते हैं जिन्हें यह शिकार बनाते हैं क्योंकि ऐसे लोग पैसा लुटने के बाद भी बदनामी के डर से कहीं शिकायत नहीं करते।

राजस्थान पुलिस को पिछले दिनों जानकारी मिली थी कि राजस्थान में भरतपुर जयपुर में ऐसे अनेक गिरोह सक्रिय हैं जो न केवल राजस्थान बल्कि महाराष्ट्र और अन्य राज्यों तक नेटवर्क फैलाकर लूटपाट करते हैं। जयपुर के एक गिरोह ने तो ऑनलाइन इसी तरह अमेरिका जैसे देश और NRI से भी ठगी की है।

इनका शिकार आम व्यक्ति से लेकर बड़े-बड़े उद्योगपति बिल्डर समाजसेवी और राजनेता तक हो चुके हैं। आम आदमी की बिसात क्या? वह उनकी डिमांड पूरी नहीं कर पाता और अंत में भयानक फैसला लेता है।

खैर हम आपको इन गिरोहों की कार्य करने की गतिविधि के बारे में बताएंगे जिससे आप जान सके कि यह किस तरह से लोगों को जाल में फसाते हैं? और आप ऐसे व्यक्तियों से सावधान रहें खासतौर से ऑनलाइन सोशल मीडिया यूज करते समय।

गूगल पर खोज करने के लिए बहुत सारे कीवर्ड बने होते हैं और उन्हीं कीवर्ड के माध्यम से व्यक्ति किसी वेबसाइट या वीडियो तक पहुंचता है। इन्हीं कीवर्ड का लाभ उठाकर यह लोग अपनी समरी वहां डाल देते हैं। और इन गिरोहों के लिंक तक पहुंच जाते उसके बाद शुरू होता है भयानक खेल।

सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं

गूगल के कुछ ऐसे कीवर्ड हैं जो लोग खोजते हैं। खासकर जब भी तन्हाई में अकेले होते हैं तो ऐसी चीजों की खोज करते हैं और अनजाने में ही इन खतरनाक गिरोह के लिंक तक पहुंच जाते हैं। कुछ गूगल कीवर्ड यह है जो अधिकतर लोग खोजते हैं:-

  • फ्री में लड़कियां कहां मिलती हैं
  • सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं
  • किराए पर लड़कियां कहां मिलती हैं
  • मौज मस्ती करने के लिए लड़की चाहिए
  • कॉल गर्ल चाहिए
  • गर्लफ्रेंड की जरूरत है
  • राजस्थान में सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं
  • जयपुर में लड़कियों की बुकिंग कैसे हो
  • गर्लफ्रेंड ऑनलाइन बुकिंग
  • फ्री में लड़कियां कहां मिलती हैं
  • शादी करने के लिए लड़की चाहिए

इसके अलावा भी बहुत सारे ऐसे सैकड़ो कीवर्ड शब्द है जो आम व्यक्ति गूगल पर सर्च करता है और उसके बदले में उनको ऐसे गिरोह के लिंक मिलते हैं। उसमें वह अच्छी खासी किसी मॉडल की तस्वीर लगाई हुई होते हैं जिससे आदमी भ्रमित हो जाता है और सोचता है कि उसे सच में लड़की मिलने वाली है।

उसके बाद वह इस लिंक पर जाता है और लड़की उसे अच्छी तरह आत्मीय बनाकर बातचीत करती हैं क्योंकि वह एक प्रोफेशनल गैंबलिंग होती है। लड़की सामने वालों को अपनी भावनाओं में बहका कर वैसा ही करवाती है जैसा वह चाहती है।

इस तरह से व्यक्ति हनी ट्रैप या लूटपाट के जाल में फंस जाता है। उस वक्त तक उसे खुद पता नहीं होता कि यह सब सोची समझी साजिश के तहत किया जा रहा है। पता तब लगता है जब उसकी वीडियो आदि बनाकर ब्लैकमेंलिंग की शुरुआत की जाती है परंतु उसके बाद उसे इस जाल से निकलने का कोई चारा नजर नहीं आता।

साइबर क्राइम एक्सपर्ट वालों का भी यही कहना है कि उस समय व्यक्ति कुछ सोच नहीं पाता और वैसा ही किया चला जाता है जैसा वह आकर्षक लड़की उसे कहती है।उसे पता ही नहीं होता कि वह किस जल में फंस रहा है और जब तक पता लगता है वह बड़ी ब्लैकमेलिंग का शिकार हो जाता है।

ऐसे लोगों का एक ग्रुप होता है जिनमें कुछ लड़कियां या महिलाएं और अन्य उनके साथी जो अपराधी किस्म के होते हैं वह ऐसा रैकेट चलाते हैं।

पहले वह किसी को भी कॉल गर्ल या गर्लफ्रेंड बनाने के लिए आमंत्रित करते हैं। उनकी साथी लड़कियां लोगों को चक्कर में फंसाने का काम करती हैं और व्यक्ति की न्यूड वीडियो या फोटो बनाकर सोशल मीडिया पर प्रसारित करने और परिवार दोस्तों को भेजने की कहकर रूपयों की डिमांड करते हैं।

जब तक किसी को पूरी तरह जल में नहीं फंसा लेती और उनकी न्यूड वीडियो आदि नहीं बना लेती तब तक उसके बाकी साथी सामने नहीं आते हैं। जैसे ही पहले चरण पूरा होता है यानी ब्लैकमेलिंग का सामान तैयार करने का।

उसके बाद उसे लड़की या महिला के साथी फोन करते हैं और ब्लैकमेलिंग का काम शुरू करते हैं। या तो वे ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करवाते हैं या फिर किसी सुनसान जगह क्या अपने फ्लैट मकान आदि पर बुलाकर उसको टॉर्चर करते हैं। रेप केस में फंसाने की धमकी देते हैं और बदले में पैसे की डिमांड करते हैं।

इसके पीछे एक अकेली लड़की नहीं बल्कि पूरा ग्रुप होता है जो फेसबुक व्हाट्सएप इंस्टाग्राम या जहां भी आप सोशल मीडिया पर सक्रिय रहते हैं वहां से आपकी पूरी जानकारी जुटाई जाती है। फोन करने के दौरान ही आपका फोन से आपका फोटो आपका फोन गैलरी में वीडियो या जो कुछ भी से है उसे एप के माध्यम से प्राप्त कर लेते हैं। आपके सभी दोस्तों रिश्तेदारों के कांटेक्ट नंबर भी आपके फोन से ही निकाल लेते हैं।

फिर इनका गोरख धंधा शुरू होता है और यह आदमी को ब्लैकमेलिंग करके बार-बार पैसे की डिमांड करते हैं। कई बार जब लोग इनकी डिमांड पूरी नहीं कर पाते तो वह पुलिस से संपर्क करते हैं और तब जाकर साइबर क्राइम एक्सपर्ट इन तक पहुंच पाते हैं परंतु अफसोस यह है कि बदनामी के दर से बहुत सारे लोग शिकायत नहीं करते इसलिए इनको पकड़ना बहुत मुश्किल है क्योंकि यह हर बार अपने फोन नंबर और सोशल मीडिया आईडी बदल लेते हैं और एक ही व्यक्ति कई कई आईडी बनाकर रखता है।

फेसबुक इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया पर इन्होंने अनेक ग्रुप बनाए हुए होते हैं। जहां पर यह एडिट करके विभिन्न मॉडल की तस्वीरें शेयर करते हैं और खुद का लिंक भी डाल देते हैं। यह कुछ अर्धनग्न तस्वीरों के साथ लिक के माध्यम से टेग डालते हैं कि हमें फॉलो करो शेयर करो आपको नंबर दूंगी या रात में आपसे बात करूंगी।

मुझे प्यार करने वाला चाहिए, मुझे कोई मर्द चाहिए जो मेरी प्यास बुझा सके। बदले में खूब सारा पैसा मिलेगा या फिर मैं गरीब लड़की हूं मेरी सहायता करो। मुझे किसी जीवनसाथी की तलाश है।

मैं बहुत अमीर हूं गाड़ी बंगला सब कुछ है परंतु मुझे एक मर्द चाहिए जो मेरे साथ रात बिता सके। मैं उसे सब कुछ दूंगी गाड़ी बंगला नौकर और साथ में सैलरी भी।

ऐसा टेग डालने के साथ-साथ यह एक बहुत खूबसूरत लड़की का फोटो भी शेयर करते हैं जो की अर्धनग्न ही होता है ताकि उसको देखने वाला आकर्षित हो और तुरंत अपना फोन नंबर कमेंट बॉक्स में डालकर हां भर दे।

फिर यह अपने हिसाब से उससे संपर्क करते हैं। यदि उनको लगता है कि यह पैसे वाला है और उनका शिकार हो सकता है तो उससे संपर्क करते हैं अन्यथा नहीं।

आजकल ऐसा भी होता है कि कुछ सॉफ्टवेयर और ऐप्स ऐसे आ गए हैं जिनमें एडिट करते हैं और आपके साथ बातचीत करते हैं और लड़की कहीं नहीं होती परंतु आपको दूसरे मोबाइल फोन या किसी सॉफ्टवेयर से इस तरह दिखाया जाता है कि आप लड़की से ही बात कर रहे हैं और वह बिल्कुल अकेली है।

फिर इस सिस्टम से आप जैसे-जैसे बात करते जाओगे वैसे ही है एडिट वीडियो से आपसे कांटेक्ट में इस तरह का दिखाएंगे कि लड़की बात कर रही है और अपने कपड़े भी उतारती जा रही है। जबकि ऐसा कुछ नहीं होता।

विभिन्न एप्स के माध्यम से आपको किसी हॉलीवुड या बॉलीवुड की फिल्म की स्क्रिप्ट दिखाई जाती है और आप को खुद न्यूड होने के लिए कहा जाता है।

उसे समय आदमी अपने दिमाग पर कंट्रोल नहीं कर पाता और लड़की के कहे अनुसार न्यूड हो जाता है। उधर दूसरी तरफ से यह साइबर अपराधी आपकी वीडियो रिकॉर्ड कर लेते हैं।

यह तकनीकी का जमाना है और इस जमाने में जो हमें दिखता है वह सच नहीं है और जो सच है वह हमें दिखाई नहीं देता। इस तरह से बहुत सारे लोगों को भरतपुर में ठगा गया है। भरतपुर अपराधियों का अड्डा है वहां पर सभी तरह के नशे और अपराधिक गतिविधियों का लेखा मिला है।

वहां के लोगों ने टेक्निकल से इस तरह से महाराष्ट्र केरल और बाहर विदेशों में बैठे लोगों को भी लूटा है। खैरी है लंबा विस्तृत विषय है। निरंतर दैनिक भास्कर स्टिंग ऑपरेशन में इसका खुलासा हुआ है। हम आपको जागरुक करते हैं कि ऐसे किसी भी मामले में न फंसे और अपने को सुरक्षित रखें।

हमने इस पोस्ट में कुछ गूगल कीवर्ड इस्तेमाल किए हैं जैसे फ्री में लड़कियां या सबसे सस्ती लड़कियां इनको आप नजर अंदाज करें क्योंकि आप तक यह पोस्ट पहुंचने के लिए हमने यह गूगल कीवर्ड इस्तेमाल किए हैं। जब आप तक पोस्ट पहुंचेगी नहीं तो हमारी सारी मेहनत बेकार हो जाएगी तो इसलिए हमने यह कीवर्ड इस्तेमाल किए हैं।

सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं? फ्री में लड़कियां कहां मिलती हैं जानिए पूरा सच

इसलिए अपने मनोरंजन के लिए फ्री में लड़कियां कहां मिलती हैं या फिर मौज मस्ती के लिए सबसे सस्ती लड़कियां कहां मिलती हैं जैसा सर्च करें तो हमेशा सावधान रहें। अन्यथा आप किसी साजिश के शिकार हो सकते हैं और किसी बड़े जाल में फंस सकते हैं।

अगर आप शादी के लिए अमीर विधवा तलाकशुदा वर या वधू की तलाश कर रहे हैं शादी के लिए अमीर लड़की चाहिए तो उसकी भी प्रोफाइल आपको यहां पर मिलेगी।

अमीर लड़की चाहिए शादी के लिए। अमीर विधवा शादी के लिए