RPSC College Lecturer Business Administration Full syllabus in Hindi

RPSC द्वारा college lecturer के विभिन्न विषयों का नया सिलेबस 2023 जारी कर दिया गया है। साथ ही असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों के लिए होने वाली परीक्षा की तिथि भी जारी कर दी है। इस पोस्ट में आप college lecturer के RPSC Business Administration Syllabus का संपूर्ण पाठ्यक्रम पढ़ सकते हैं।

RPSC ने Assistant Professor Notification 2020 में कॉलेज लेक्चरर के विभिन्न विषयों के 914 पदों के लिए विज्ञप्ति जारी की थी। अब इन विषयों के लिए नया सिलेबस जारी कर दिया गया है और परीक्षा तिथि भी घोषित कर दी है। आप RPSC college lecturer Business Administration syllabus Hindi को यहां पर हिंदी में पढ़ सकते हैं और उसके अनुसार अपनी तैयारी कर सकते हैं।

RPSC Assistant Professor 2020 की विज्ञप्ति में 31 विषयों के पद ज्ञापित किए गए थे जिनमें सर्वाधिक पद Business Administration विषय के हैं। इस विषय के 127 पदों के लिए परीक्षा आयोजित की जानी है।

राजस्थान लोक सेवा आयोग ने सभी पदों की परीक्षा 4 अप्रैल 2021 को General studies of Rajasthan के पेपर से शुरुआत की है। कॉलेज लेक्चरर राजस्थान सामान्य अध्ययन का सिलेबस हिंदी में पढ़ने के लिए यह पोस्ट पढ़ सकते हैं।

कॉलेज लेक्चरर सिलेबस हिंदी में। RPSC College Lecturer Syllabus GK

राजस्थान कॉलेज लेक्चरर के Business Administration विषय की परीक्षा 10 अप्रैल 2021 को आयोजित की जाएगी। इस विषय के सिलेबस एवं एक्जाम पेटर्न की जानकारी इस प्रकार है।

RPSC Business Administration Syllabus 2023

बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के 2 प्रश्न पत्र आयोजित होंगे। आप प्रथम प्रश्न पत्र एवं द्वितीय प्रश्न पत्र का सिलेबस पढ़ें और इसके अनुसार तैयारी करें।

प्रथम प्रश्न्न पत्र सिलेबस

1.प्रबंधन का सिद्धांत और अभ्यास(Theory and practice of management)

  • प्रकृति और प्रबंधन का महत्व, प्रबंधन की प्रक्रिया, प्रबंधकीय भूमिकाएं, प्रबंध के कार्य (functions), प्रभावी प्रबंधक के कौशल स्कूल प्रबंधन सोच(Skills of Effective Manager Schools of Management Thought.)
  • योजना, प्रबंधकीय निर्णय लेने, एमबीओ(MBO), विभागीयकरण(Departmentalization,), बिजली और प्राधिकरण का वितरण।
  • नेतृत्व शैली, समूह व्यवहार और टीम बिल्डिंग, प्रभावी संचार प्रणाली, डिजाइनिंग नियंत्रण प्रणाली(Designing Control System), एमआईएस(MIS)
  • प्रेरणा: अवधारणा, प्रेरणा पर समकालीन दृश्य, प्रबंधन,परिवर्तन, संघर्ष प्रबंधन, तनाव का प्रबंधन, समय प्रबंधन,सम्पूर्ण गुणवत्ता प्रबंधन।
  • प्रबंधन में वैश्विक पर्यावरण, प्रबंधन में नैतिकता, कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी, कॉर्पोरेट संस्कृति(Corporate Culture)
  • सामरिक प्रबंधन(Strategic Management) : सामरिक प्रबंधन की भूमिका और कार्य, सामरिक प्रबंधन की प्रक्रिया(process), संगठनात्मक मिशन, विजन और उद्देश्य, रणनीति और संरचना।
  • प्रबंधन में उभरते रुझान

Rajasthan Assistant Professor Business Administration syllabus Hindi mein

2. संगठन व्यवहार(Organization Behavior)

  • ।संगठन व्यवहार: परिभाषा, स्कोप, महत्व,संगठनात्मक व्यवहार की अवधारणआ , संगठनात्मक व्यवहार के मॉडल।
  • व्यक्तिगत व्यवहार: धारणा, विशेषता(Attribution), व्यक्तित्व, दृष्टिकोण, सीखना, मान(Values), प्रेरणा, नौकरी से संतुष्टि(Job satisfaction)।
  • समूह की गतिशीलता और टीम बिल्डिंग(Team Building): समूह गठन के सिद्धांत, औपचारिक और अनौपचारिक समूह(formal and informal groups), टीम बिल्डिंग का महत्व, संघर्ष(conflict)- परिभाषा,संघर्ष के पारंपरिक बनाम आधुनिक दृष्टिकोण, संघर्ष के प्रकार-अंतर व्यक्तिगत(Intra personal),पारस्परिक(interpersonal), संगठनात्मक, रचनात्मक और विनाशकारी संघर्ष, संघर्ष प्रबंधन।
  • तनाव प्रबंधन: परिभाषा, कारण, प्रकार, तनाव का प्रबंधन,अंतर्वैयक्तिक सम्बन्ध(interpersonal relations)
  • व्यक्तित्व(personality) व्यक्तित्व की विशेषताओं का विकास,अहं अवस्था (Egostate), लेनदन संबंधी विश्लेषण।
  • संगठन की संस्कृति और जलवायु, संगठन की प्रभावशीलता

3. मानव संसाधन प्रबंधन (Human Resource Management)

  • मानव संसाधन प्रबंधन: संकल्पना, उद्देश्य, मानव संसाधन प्रबंधन का क्षेत्र(Scope) और महत्व, भारत में मानव संसाधन पर्यावरण, एचआरएम (HRM) की बदलती भूमिका,मानव संसाधन विभाग के संगठन।
  • नौकरी विश्लेषण और नौकरी डिजाइन: मानव संसाधन योजना, नौकरी विश्लेषण(Job Analysis), नौकरी विवरण और विनिर्देश, नौकरी डिजाइन दृष्टिकोण।
  • भर्ती और चयन: भर्ती को प्रभावित करने वाले कारक, भर्ती के स्रोत (आंतरिक और बाहरी) चयन प्रक्रिया, चयन के लिए मनोवैज्ञानिक परीक्षण(psychological test), चयन के लिए अच्छे प्रशिक्षण की आवश्यकता, साक्षात्कार, प्लेसमेंट और इंडक्शन।
  • मानव संसाधन विकास: सीखने (Learning) का सिद्धांत, लर्निंग हस्तक्षेप, लर्निंग हस्तांतरण, कोचिंग और मेंटरिंग।
  • प्रदर्शन मूल्यांकन: अवधारणा और उद्देश्य, पारंपरिक और आधुनिक तरीके, पदोन्नति, स्थानांतरण, पृथक्करण।
  • मुआवजा प्रबंधन(Compensation Management), नौकरी मूल्यांकन, आधार मुआवजा और पूरक मुआवजा, मुआवजा प्रबंधन में नवाचार।
  • केरियर योजना, उत्तराधिकार योजना (Succession)
  • शिकायत निवारण: तंत्र और शिकायत निवारण प्रक्रिया।
  • ट्रेड यूनियन: स्थिति, विनियम, संघ और प्रबंधन संबंध।

यह RPSC Business Administration (व्यावसायिक प्रशासन) के प्रथम प्रश्न पत्र का सिलेबस है। यह आरपीएससी द्वारा 2021 में जारी किया गया नया syllabus है।

RPSC Business Administration Syllabus 2nd Paper

राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा जारी Business Administration विषय के 2nd प्रश्न पत्र का सिलेबस हिंदी में इस प्रकार है-

1. व्यापार के कानूनी पहलू (Legal Aspects of Business)

  • भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872-वैद्य अनुबंध की अनिवार्यता, प्रस्ताव और स्वीकृति, विचार,मुक्त सहमति, शून्यऔर शून्य समझौते(Void and Voidable agreements), अनुबंध का निर्वहन।
  • माल की बिक्री अधिनियम, 1930-बिक्री और बिक्री का समझौता,शर्तें और वारंटी(warranties), माल के स्वामित्व का हस्तांतरण, अनुबंध का प्रदर्शन।
  • कंपनी अधिनियम, 2013-कंपनी का गठन, एसोसिएशन का ज्ञापन, एसोसिएशन के लेख, प्रोस्पेक्टस, राजधानी स्थापना(raising capital), रेजिंग ऋण-धन (Raising debt- funds), पुस्तक निर्माण, कंपनियों का प्रबंधन, बोर्ड ऑफ निदेशक, प्रमुख प्रबंधन कर्मी; लाभांश भुगतान; खाते और लेखा परीक्षा; समापन (Winding up)
  • सचिविय प्रैक्टिस-बोर्ड और शेयरधारकों की बैठकें, आलेखन नोटिस(drafting notices),प्रस्ताव, बैठकें आयोजित करना, रिकॉर्डिंग मिनट, कॉर्पोरेट रिपोर्ट, अनुपालन रिपोर्ट(Compliance reports)
  • भारतीय व्यापार संघ अधिनियम, 1926.
  • मजदूरी का भुगतान अधिनियम, 1936.
  • न्यूनतम मजदूरी अधिनियम 1948.
  • फैक्ट्री एक्ट 1948.
  • औद्योगिक विवाद अधिनियम 1965.
  • उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986.

2. विपणन प्रबंधन (Marketing Management)

  • मार्केटिंग मैनेजमेंट: संकल्पना, महत्व, दायरा(scope), विपणन के लिए पहुंच ((approach to marketing), विपणन प्रक्रिया, विपणन पर्यावरण, विपणन में सामाजिक नैतिक और कानूनी मुद्दे ।(Social, Legal and Ethical Issues in Marketing)
  • उत्पाद योजना: उत्पाद नीति, निर्णय, ब्रांड और व्यापार चिह्न, पैकेजिंग, भारत में उत्पाद योजना, ब्रांड इक्विटी।
  • मूल्य निर्धारण(Pricing): मूल्य निर्धारण विचारक कारक, मूल्य निर्धारण उद्देश्य और रणनीति,ब्रेकेवन विश्लेषण, मूल्य रखरखाव, डिस्काउंट नीति, विशेष विक्रय शर्तें, क्रेडिट शर्तें।
  • वितरण के चैनल(Channels of Distribution): चैनल्स के प्रकार, मेजर चैनल विकल्प का मूल्यांकन, भारत में वितरण के चैनल।
  • विज्ञापन और बिक्री संवर्धन, विज्ञापन कार्यक्रम, विज्ञापन रणनीति, मीडिया प्रबंधन, प्रभाव आकलन, बिक्री प्रचार उपकरण और तकनीक,प्रत्यक्ष विपणन(direct marketing), घटना प्रबंधन, एकीकृत विपणन संचार, ग्राहक संबंध (customer relationship)
  • बाजार विभाजन(Market Segmentation, ), बाजार का विश्लेषण (marketing analysis) बाजार अनुसंधान (marketing research)
  • विपणन में रुझान: सेवा विपणन, हरित विपणन(green Marketing), डिजिटल मार्केटिंग(digital marketing), रूरल मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग।
  • बिक्री प्रबंधन: बिक्री योजना और संगठन, बिक्री कौशल,बिक्री मूल्यांकन और नियंत्रण।
  • उपभोक्ता व्यवहार: खरीद प्रक्रिया, निर्णय खरीदना, प्रक्रिया बनाना,धारणा, मनोवृत्ति, उपभोक्ता की भागीदारी, उपभोक्तावाद।
  • आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन: लॉजिस्टिक गतिविधियाँ, लॉजिस्टिक मिक्स और लॉजिस्टिक संगठन
  • निर्यात विपणन: विनियमन, सुविधा और प्रलेखन।
  • अंतर्राष्ट्रीय विपणन(International marketing): प्रकृति, महत्व, क्षेत्र, घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय विपणन, अंतर्राष्ट्रीय विपणन वातावरण।

RPSC college lecturer Business Administration syllabus Hindi

3. कॉरपोरेट प्रशासन और व्यावसायिक नियंत्रण(Corporate Governance and Business Environment)

  • व्यवसाय का सामाजिक और सांस्कृतिक वातावरण- कंपनी और हितधारक,स्वामित्व और नियंत्रण, शेयरधारक सक्रियता, विविधता, विदेशी संस्थागत निवेशक।
  • कॉर्पोरेट प्रशासन, निदेशक मंडल- संरचना,आजादी,बोर्ड समितियाँ- भूमिका और कार्य।
  • व्यवसाय की सामाजिक जिम्मेदारी- सीएसआर (CSR)रणनीतियाँ, सीएसआर(CSR) गतिविधियाँ।
  • व्यापार और कॉर्पोरेट नैतिकता- आचार संहिता(code of ethics), नैतिक दुविधाएं, क्रोनी पूंजीवाद, व्हिसल ब्लोअर पॉलिसी, इनसाइडर ट्रेडिंग।
  • व्यापार का कानूनी वातावरण, कानून के बदलते पर्यावरणआयाम, बौद्धिक संपदा अधिकार ।(Intellectual Property Rights.)
  • पर्यावरण संरक्षण, पर्यावरण और जल पर सरकार की नीति,रोकथाम और प्रदूषण का नियंत्रण) अधिनियम, 1974,
  • वायु (रोकथाम और प्रदूषण पर नियंत्रण) अधिनियम, 1981,
  • पर्यावरण (संरक्षण और नियंत्रण)प्रदूषण) अधिनियम, 1988।
  • वैश्वीकरण: इसके निहितार्थ, प्रतिस्पर्धा अधिनियम, 2002
  • आध्यात्मिकता(Spirituality) और प्रबंधन: आध्यात्मिकता की अवधारणा, भारतीय लोकाचार और मान, प्रबंधन में योग के अनुप्रयोग, ध्यान(Meditation) और तनाव का प्रबंधन।
  • उद्यमिता(Entrepreneurship) की अवधारणा, विशेषताएं, उद्यमशीलता की आर्थिक विकास में भूमिका, लघु व्यवसाय प्रबंधन में उद्यमी की क्षमता और गुण, अभिलक्षणा(Characteristics)
  • ईकॉमर्स: ईकॉमर्स की मुख्य प्रक्रिया ड्राइवर,तत्व, मानक, प्रौद्योगिकी, ईकॉमर्स मॉडल, मोबाइल,व्यापार।

RPSC Business Administration eligibility

RPSC के Business Administration विषय के लिए व्यावसायिक प्रशासन विषय में पोस्ट ग्रेजुएट होना आवश्यक है। व्यावसायिक प्रशासन में M.Com. और National eligibility test उत्तीर्ण किए हुए अभ्यर्थी इस परीक्षा में बैठ सकते हैं ।

Business Administration के प्रथम और दूसरे पेपर का पैटर्न इस प्रकार है-

  1. परीक्षा में objective type के 150 प्रश्न होंगे।
  2. परीक्षा के अधिकतम अंक 75 होंगे।
  3. प्रत्येक प्रश्न करना अनिवार्य होगा
  4. प्रश्नपत्र द्विभाषी (Bilingual) अर्थात हिंदी और अंग्रेजी में होगा।
  5. प्रश्नपत्र को 3 घंटे में हल करना होगा।

RPSC कॉलेज लेक्चरर Business Admission Syllabus को हिंदी में पढ़ने के बाद आप इसकी अच्छी तैयारी कर सकते हैं। यदि आप कॉलेज लेक्चरर सामान्य ज्ञान, राजनीति विज्ञान या इतिहास विषय का सिलेबस देखना चाहते हैं तो हमारी पोस्ट पढ़ सकते हैंं।

आपको हमारी यह पोस्ट RPSC college lecturer Business Administration syllabus पसंद आई हो तो इसे अपने साथियों या तैयारी कर रहे मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *