Rajasthan Government Teacher Kaise bane गवर्नमेंट टीचर योग्यता और कोर्स।

नमस्कार मित्रों. बहुत से स्टूडेंट्स ने मुझसे पूछा है कि एक सरकारी अध्यापक बनने के लिए वह भी गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए क्या करना पड़ता है. Government school teacher बनने के लिए क्या योग्यताएं हैं?गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए कौन सा कोर्स करना पड़ता है. तो आज मैं इस पोस्ट में आपको बताऊंगा कि सरकारी अध्यापक के लिए क्या योग्यताएं हैं कौन-कौन से कोर्स हैं ? बीएसटीसी और B.Ed.कैसे करें और गवर्नमेंट टीचर बने की पूरी प्रक्रिया इस लेख गवर्नमेंट टीचर कैसे बने में विस्तार से आपको बताऊंगा.राजस्थान गवर्नमेंट स्कूल टीचर कैसे बने और गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए क्या आवश्यक योग्यता है और गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए क्या क्या कोर्स कर सकते हैं

गवर्नमेंट टीचर कैसे बने

गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए योग्यता

गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए निम्न योग्यताओं का होना आवश्यक है।

विभिन्न राज्यों और केंद्र के भर्ती नियमों तथा राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद के अकॉर्डिंग टीचर बनने के लिए दो तरह की क्वालिफिकेशन होनी चाहिए-शैक्षणिक योग्यता और.प्रशैक्षिक/व्यावसायिक योग्यता।

राजस्थान गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए योग्यता

  • 12वीं कक्षा 50 प्रतिशत अंकों से उत्तीर्ण
  • 50% अंको से किसी भी संकाय में ग्रेजुएशन
  • बीएसटीसी b.ed या अन्य कोई टीचर ट्रेनिंग कोर्स
  • अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET) सर्टिफिकेट
  • RSMSSB या RPSC गवर्नमेंट टीचर परीक्षा में मेरिट स्थान प्राप्त करना।

उक्त प्रक्रिया के द्वारा राजस्थान में गवर्नमेंट टीचर की भर्ती की जाती हैं इसमें स्थान बनाकर Rajasthan Government Teacher बन सकते हैं।

टीचर बनने के लिए न्यूनतम अनिवार्य शैक्षिक योग्यता कक्षा 12 किसी भी विषय के साथ उत्तीर्ण करना है. कक्षा 12 किसी भी संकाय/विषय में न्यूनतम 50 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए। आरक्षित वर्ग को इसमें 5% की छूट दी गई है.

यह न्यूनतम शैक्षिक योग्यता प्राथमिक एवं पूर्व प्राथमिक कक्षाओं को अध्यापन कराने वाले अध्यापकों के लिए है. अर्थात 12वीं कक्षा पास करने के बाद से ही आप primary teacher training course में प्रवेश प्राप्त करके government school teacher बनने की शुरुआत कर सकते हैं।

हालांकि यह हमेशा याद रखना चाहिए कि एजुकेशन के क्षेत्र में जितनी अधिक और उच्च क्वालिफिकेशन होगी सफलता के अवसर भी ज्यादा होंगे क्योंकि अधिक क्वालिफिकेशन होने से आप (government primary secondary Senior school)सभी तरह के School Teacher के पदों के लिए आवेदन करने योग्य होंगे।

उच्च कक्षाओं के अध्यापक तथा व्याख्याता के लिए पद एवं विषय के अनुसार स्नातक एवं अधि स्नातक योग्यता निर्धारित की गई है. स्नातक अधि स्नातक में प्राप्तांक प्रतिशत की बाध्यता के लिए अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग नियम निर्धारित किए गए हैं परंतु फिर भी सामान्यतया स्नातक में 50% अंक योग्यता निर्धारित की गई है। कुछ राज्यों में प्राप्तांक प्रतिशत की कोई बाध्यता नहीं है।

राजस्थान गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए कोर्स

टीचर बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता के साथ साथ अध्यापक प्रशिक्षण (teacher training) में योग्यता प्राप्त करना भी अनिवार्य है. प्राथमिक एवं उच्चतर कक्षाओं के लिए अलग-अलग अध्यापक प्रशिक्षण कोर्सेज उपलब्ध हैं आप अपनी योग्यता एवं आपके अवसर की उपलब्धता को ध्यान में रखते हुए किसी टीचर ट्रेनिंग पाठ्यक्रम में प्रवेश ले सकते हैं.

सभी राज्यों के महाविद्यालयों में विश्वविद्यालयों द्वारा टीचर ट्रेनिंग प्रोग्राम करवाए जाते हैं यह एनसीटीई अर्थात राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद एवं सरकार से मान्यता प्राप्त होने चाहिए. इन कोर्सेज के बारे में आगे इस पोस्ट में विस्तार से जानकारी दी गई है।

अध्यापक पात्रता परीक्षा (Teachers eligibility test)

शैक्षणिक और प्रशिक्षण योग्यता के साथ साथ अध्यापक बनने के लिए अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीचर्स एलिजिबिलिटी टेस्ट) को भी अनिवार्य कर दिया गया है.

अध्यापक पात्रता परीक्षा केंद्र(Central government) द्वारा CTET तथा विभिन्न राज्यों में अलग-अलग नामों से आयोजित की जाती है. संबंधित राज्य की अध्यापक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद ही उस राज्य के school teacher भर्तियों के लिए पात्र होते हैं

अध्यापक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए निर्धारित न्यूनतम प्राप्तांक प्राप्त करना अनिवार्य है विभिन्न आरक्षित वर्ग को इसमें नियमानुसार छूट दी गई है तथापि आप किसी भी राज्य की अध्यापक भर्ती परीक्षा के लिए आवेदन तभी कर सकते हैं जब आपने उस राज्य द्वारा आयोजित अध्यापक पात्रता परीक्षा को उत्तीर्ण कर लिया हो

केंद्र की भर्तियों के लिए आवेदन करने के लिए केंद्र द्वारा संचालित सीटेट केंद्रीय अध्यापक पात्रता परीक्षा को 60% अंकों के साथ उत्तीर्ण करना अनिवार्य है कुछ विशेष श्रेणी को इसमें नियमानुसार ढील दी गई है।

सामान्यतया सभी राज्यों की अध्यापक पात्रता परीक्षा योजना एवं पाठ्यक्रम समान ही होते हैं

तथापि माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक कक्षाओं अध्यापन कराने वाले सीनियर टीचर एवं स्कूल लेक्चरर के लिए अध्यापक पात्रता परीक्षा पास करना अनिवार्य नहीं है अर्थात टीचर्स एलिजिबिलिटी टेस्ट केवल प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक कक्षाओं को अध्यापन कराने वाले टीचर्स के लिए है।

गवर्नमेंट स्कूल टीचर कैसे बने

सामान्यतः स्कूली शिक्षा को हम दो भागों में बांट सकते हैं. इसी आधार पर शिक्षक श्रेणी का विभाजन भी किया जाना उचित होगा. यदि आप शिक्षक श्रेणी के बारे में जान लेंगे तो उस श्रेणी के लिए टीचर ट्रेनिंग प्रोग्राम के बारे में जानना आसान होगा।

भारत में सामान्यतः स्कूली शिक्षा को दो भागों में बांटा जाता है-

1. प्रारंभिक शिक्षा(elementary education)

प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक कक्षाओं या विद्यालयों से संबंधित शिक्षा कार्यक्रम प्रारंभिक शिक्षा एवं इनमें अध्ययन करवाने वाले शिक्षकों को प्राथमिक शिक्षक (primary teacher)कहते हैं. प्राथमिक कक्षाओं को अध्यापन कराने वाले शिक्षकों को तृतीय श्रेणी अध्यापक भी कहते हैं.प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए विभिन्न टीचर्स ट्रेनिंग डिप्लोमा डीएलएड, BA.B.Ed. तथा BSC.B.Ed आदि हैं।

2. माध्यमिक शिक्षा (secondary Education)

कक्षा 9 से 12 तक की स्कूली शिक्षा को माध्यमिक शिक्षा /उच्च माध्यमिक शिक्षा कहते हैं. विभिन्न राज्यों में प्रारंभिक शिक्षा विभाग एवं माध्यमिक शिक्षा विभाग अलग-अलग कार्य करते हैं. दोनों में पद विभाजन अलग है. कक्षा 9 एवं 10 को पढ़ाने वाले अध्यापकों को द्वितीय श्रेणी(senior teacher) तथा कक्षा 11 एवं 12 को अध्यापन कराने वाले शिक्षकों को प्रथम श्रेणी (school lecturer) या व्याख्याता कहा जाता है

द्वितीय एवं प्रथम श्रेणी शिक्षकों के लिए एक ही टीचर्स ट्रेनिंग पाठ्यक्रम (बीएड/ समकक्ष) करना अनिवार्य है. इसके लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता किसी भी विषय में स्नातक होना चाहिए तथा 2 वर्षीय अध्यापक शिक्षण प्रशिक्षण डिप्लोमा डिग्री होना चाहिए.

प्रथम श्रेणी शिक्षक के लिए 2 वर्षीय स्नातक स्तरीय अध्यापक शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम में डिग्री के साथ ही संबंधित विषय में अधि स्नातक (एमए/समकक्ष) शैक्षणिक योग्यता होना अनिवार्य है. इस हिसाब से आप समझ गए होंगे एक अध्यापक बनने के लिए निम्न योग्यताएं होनी आवश्यक हैं-

गवर्नमेंट बनने के लिए योग्यता

पूर्व प्राथमिक /नर्सरी शिक्षक हेतु

नर्सरी या पूर्व प्राथमिक कक्षाओं को पढ़ाने वाले अध्यापकों के लिए उच्च माध्यमिक शिक्षा के साथ DPSE diploma in pre school education या NTT अर्थात नर्सरी टीचर ट्रेनिंग कोर्स करना अनिवार्य होगा।

प्राइमरी टीचर बनने की योग्यता

  1. न्यूनतम 50% अंकों के साथ कक्षा 12 उत्तीर्ण या समकक्ष
  2. प्रारंभिक शिक्षा में दो वर्षीय अध्यापक शिक्षण प्रशिक्षण डिप्लोमा
  3. केंद्र या संबंधित राज्य की अध्यापक पात्रता परीक्षा में उत्तीर्णता.

इन तीनों योग्यताओं के अलावा संबंधित राज्य अन्य योग्यताएं भी निर्धारित कर सकता है जैसे मूल निवासियों के लिए आरक्षण, क्षेत्रीय भाषा का ज्ञान होना, दो से अधिक संतान न होना दहेज न लेना आदि।

हाई स्कूल टीचर बनने के लिए योग्यता

Trained Graduate Teacher

प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक – माध्यमिक कक्षा 9 एवं 10 को पढ़ाने वाले शिक्षकों को TGT, Senior Teacher (वरिष्ठ अध्यापक) या द्वितीय श्रेणी अध्यापक कहते हैं. सीनियर टीचर ग्रेड सेकंड बनने के लिए संबंधित विषय में अर्थात जिस विषय का शिक्षक बनना चाहता है उस विषय में स्नातक तथा शिक्षण प्रशिक्षण (bachelor of Education) में डिग्री होना आवश्यक है.

Post Graduate Teacher (PGT) –

पोस्ट ग्रेजुएट शिक्षक उच्च माध्यमिक कक्षा 11 एवं 12 को अध्यापन कराने वाले शिक्षक को कहतेे हैं. इसेेेे प्रथम श्रेणी शिक्षक या स्कूल व्याख्याता (School Lecturer) भी कहते हैं. स्कूल व्याख्याता बनने के लिए संबंधित विषय में स्नातकोत्तर (एमए एमएससी या समकक्ष) उपाधि प्राप्त होना चाहिए.यह स्नातकोत्तर डिग्री उसी विषय में होनी चाहिए जिस विषय के लिए वह फर्स्ट ग्रेड टीचर बनना चाहता है .साथ में स्नातक स्तरीय शिक्षण प्रशिक्षण(B.Ed.) में दो वर्षीय डिग्री होनी चाहिए।

School Headmaster/ principal-

विद्यालय के हेडमास्टर एवं प्रिंसिपल पद के लिए शैक्षणिक एवं व्यावसायिक डिग्री के साथ-साथ अध्यापन अनुभव होना भी आवश्यक है. इनमें कुछ पदों को सीधी भर्ती से एवं कुछ पदों को विभागीय पदोन्नति के माध्यम से भरा जाता है सीधी भर्ती उम्मीदवार के पास हेड मास्टर पद के लिए स्नातक योग्यता एवं बीएड तथा अध्यापन के क्षेत्र में अनुभव होना चाहिए। प्रिंसिपल पद के लिए स्नातकोत्तर योग्यता एवं बीएड के साथ-साथ शिक्षण का अनुभव भी होना चाहिए यह शिक्षण अनुभव उम्मीदवार के वर्तमान पद के अनुसार अलग-अलग होता है।

सामान्यतया शिक्षक के लिए ऊपर वर्णित योग्यताएं अध्यापक शिक्षा परिषद (National council for teachers)द्वारा निर्धारित हैं तथा कॉमन है विभिन्न राज्यों के द्वारा अपनी भौगोलिक एवं सामाजिक परिस्थितियों के अनुसार अतिरिक्त योग्यता अथवा शिथिलन भी दिया गया है नियमानुसार आरक्षण का प्रावधान भी है। तो साथियों यह थी government school teacher बनने के लिए आवश्यक प्रमुख योग्यताएं।

NCTE से मान्यता प्राप्त विभिन्न राज्यों में संचालित टीचर्स ट्रेनिंग डिप्लोमा डिग्री के प्रमुख कोर्स की जानकारी यहां नीचे दी गई है आप इन्हें पढ़कर जान सकते हैं कि टीचर बनने के लिए कौन-कौन से कोर्सेज प्रचलित हैं विभिन्न राज्यों में परिस्थितियों के अनुसार इसमें कुछ शिथिलन एवं आरक्षण का प्रावधान भी किया गया है.

गवर्नमेंट टीचर के लिए एनसीटीई टीचर ट्रेनिंग कार्यक्रम

राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद द्वारा मान्यता प्राप्त प्रमुख कोर्सेज

प्राइमरी टीचर बनने के लिए कोर्स

DPSE- Diploma in pre school education – पूर्व शिक्षा में डिप्लोमा/प्रारंभिक बाल्यावस्था शिक्षा कार्यक्रम

  • यह पूर्व प्राथमिक बालकों जैसे नर्सरी किंडरगार्टन बच्चों को पढ़ाने वाले शिक्षकों के लिए है.
  • इस कार्यक्रम के द्वारा 3 वर्ष से 6 वर्ष तक के बच्चों की शिक्षा के लिए अध्यापक तैयार करना है.
  • कार्यक्रम की अवधि 2 वर्ष है.
  • इसमें प्रवेश लेने के लिए उच्च माध्यमिक (10+2) या समतुल्य परीक्षा में न्यूनतम 50 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण होना आवश्यक है. विभिन्न वर्गों को राज्य सरकार के नियमानुसार आरक्षण का प्रावधान है

D.El.Ed.-Diploma in Elementary Education)

Elementary school teacher training course

प्रारंभिक शिक्षा कार्यक्रम :- पूर्व में इस कार्यक्रम का नाम विभिन्न राज्यों में अलग-अलग जैसे BSTC,JBT, DED था. वर्तमान में इसे प्रारंभिक शिक्षा में डिप्लोमा (diploma in elementary education) कहा जाता है

  • यह डिप्लोमा कार्यक्रम कक्षा 1 से 8 तक पढ़ाने वाले शिक्षकों के लिए है
  • कार्यक्रम की अवधि 2 वर्ष है.
  • इसमें प्रवेश लेने की न्यूनतम योग्यता उच्च माध्यमिक कक्षा न्यूनतम 50% अंकों के साथ उत्तीर्ण होना है। पाठ्यक्रम में प्रवेश संबंधी नियम तथा आरक्षण संबंधी प्रावधान संबंधित संघ या राज्य सरकार के नियमानुसार होंगे।
  • प्रवेश के लिए चयन अर्हक परीक्षा प्राप्तांक या प्रवेश परीक्षा के प्राप्तांक होंगे जैसा संबंधित राज्य सरकार निश्चित करे।

B.El.Ed.-Bachelor of elementary Education

प्रारंभिक अध्यापक शिक्षा स्नातक कार्यक्रम-

  • प्रारंभिक शिक्षा में स्नातक स्तरीय यह व्यावसायिक पाठ्यक्रम कक्षा 1 से 8 तक के अध्यापकों के लिए है.
  • यह कार्यक्रम विद्यार्थियों को व्यापक रूप से व्यावसायिक एवं शैक्षिक उद्देश्यों के लिए तैयार करना है।इस कार्यक्रम की अवधि 4 वर्ष है उम्मीदवार का इसमें प्रवेश लेने के वर्ष से 6 वर्षों के भीतर अंतिम परीक्षा में सम्मिलित होना आवश्यक है
  • इस कार्यक्रम में प्रवेश लेने के लिए न्यूनतम 50% अंकों के साथ उच्च माध्यमिक या समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक है.
  • इस कार्यक्रम में प्रवेश प्रक्रिया वरिष्ठ माध्यमिक (10+2) में प्राप्त अंकों के आधार पर या प्रवेश परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर अथवा संबंधित विश्वविद्यालय के नियमों के अनुसार दिया जाएगा।

2nd grade school teacher training courses

माध्यमिक विद्यालयों में टीचर्स और फिजिकल टीचर्स के लिए डिप्लोमा या डिग्री

B.Ed.-Bachelor of Education

सर्वाधिक प्रचलित और प्रसिद्ध शिक्षा में स्नातक यह कार्यक्रम जिसे सामान्यतः बी एड भी कहा जाता है पहले एक वर्षीय डिग्री कार्यक्रम था जिसकी वर्तमान में अवधि 2 वर्ष कर दी गई है.

  • स्कूली शिक्षा के लिए उच्च प्राथमिक/मिडिल स्तर (कक्षा 6 से 8) माध्यमिक स्तर (कक्षा 9-10) उच्च माध्यमिक (कक्षा 11- 12) के अध्यापकों के लिए है।
  • बीएड कार्यक्रम की अवधि 2 वर्ष कर दी गई है परंतु कोई अभ्यर्थी इसे 3 वर्षों में पूर्ण कर सकता है।
  • b.ed कार्यक्रम में प्रवेश हेतु निर्धारित न्यूनतम योग्यता 50% अंकों के साथ स्नातक कला /मानविकी /विज्ञान /वाणिज्य आदि विषय में अध्ययन होना आवश्यक है. इसके अतिरिक्त इंजीनियरिंग जिसमें गणित और विज्ञान की विशेषज्ञता हो या इसके समकक्ष 55% अंकों के साथ उत्तीर्ण अभ्यर्थी भी पात्र होंगे
  • स्नातक के बाद B.Ed. करने के बाद आप विद्यालय स्तरीय कक्षा 6 से 12 तक पढ़ाने वाले अध्यापकों के तृतीय श्रेणी द्वितीय श्रेणी एवं प्रथम श्रेणी पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं

D.P.Ed.-Diploma in physical education

शारीरिक शिक्षा में डिप्लोमा कार्यक्रम-

  • विद्यालयों में शारीरिक शिक्षक का भी पद होता है जिसके लिए शारीरिक शिक्षा में डिप्लोमा कोर्स किया जाता है. यह कोर्स या डिप्लोमा प्रारंभिक शिक्षा कक्षा 1 से 8 तक के शारीरिक शिक्षक पदों के लिए होता है
  • शारीरिक शिक्षा में डिप्लोमा की अवधि 2 वर्ष की होती है इस डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश पाने के लिए उच्च माध्यमिक (10+2)या समकक्ष न्यूनतम 50% अंकों के साथ उत्तीर्ण होना अनिवार्य है तथापि उम्मीदवारों को 5% अंकों की छूट दे है जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय जा एसजीएफआई खेल प्रतियोगिता में भाग लिया हो। अर्हक अंको में छूट एवं अन्य आरक्षण संबंधी प्रावधान संबंधित सरकार के नियमानुसार देय हैं।

B.P.Ed.-bachelor of physical education

शारीरिक शिक्षा में स्नातक डिग्री

कक्षा 6 से 10 तक शारीरिक शिक्षक तैयार करने तथा कक्षा 11 – 12 में शारीरिक शिक्षा और खेलकूद आयोजित करने के लिए है. बीपीएड कार्यक्रम की अवधि 2 वर्ष है

M.P.Ed. -Master of physical education

शारीरिक शिक्षा में मास्टर डिग्री –

प्रथम श्रेणी शारीरिक अध्यापक या पीटीआई (physical training instructor) के पदों के लिए बीपीएड करने के बाद अभ्यर्थी एमपीएड कर सकता है.

राजस्थान बीपीएड एमपीएड: शारीरिक शिक्षा में स्नातक और स्नातकोत्तर कोर्स

शारीरिक शिक्षा में शिक्षक (पीटीआई) बनने के लिए क्या योग्यता है? कौन सा कोर्स करना पड़ता है और आप पीटीआई कैसे बन सकते हैं इसके बारे में मैंने विस्तार से पोस्ट लिखी है. आप इस लिंक पर क्लिक करके शारीरिक शिक्षक एवं Physical Education Diploma Courses के बारे में विस्तार से जान सकते हैं-

पीटीआई कैसे बने? पीटीआई बनने के लिए कौनसे कोर्सेज हैं संपूर्ण जानकारी हिंदी में

Distance learning course in teacher training

राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय जैसे इग्नू, राज्य मुक्त विश्वविद्यालय जैसे कोटा हैदराबाद, निदेशालय बीकानेर एवं अन्य विश्वविद्यालय जो मुक्त एवं दूरस्थ अध्यापक शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाने के लिए यूजीसी से मान्यता प्राप्त हैं और जो सेवारत शिक्षकों के लिए इस तरह के कार्यक्रम चलाते हैं उनसे मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा में डीएलएड एवं B.ed करके government school teacher बनने की योग्यता प्राप्त कर सकते हैं यह प्रमुख कोर्स लोगों के लिए ही उपलब्ध हैं जो वर्तमान में किसी government या private school teacher के रूप में शिक्षण कार्य कर रहे हैं.इनमें प्रवेश योग्यता निम्न प्रकार है-

D.El.Ed.-diploma in elementary education (ODL)

  • मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से प्रारंभिक शिक्षा में d.el.ed करने की अवधि 2 वर्ष होगी तथापि अभ्यर्थियों को यह छूट होगी कि वह अधिकतम 5 वर्षों में यह कोर्स पूरा कर लेंगे।
  • पात्रता : अभ्यर्थी ने उच्चतर माध्यमिक कक्षा में 50% प्राप्तांक प्राप्त किए हों।
  • वर्तमान में किसी प्राथमिक/प्रारंभिक सरकारी या मान्यता प्राप्त गैर सरकारी विद्यालय में अध्यापक के रूप में कार्यरत हो।
  • एसटी एससी ओबीसी पीडब्ल्यूडी वर्गों को संबंधित केंद्रीय या राज्य सरकार के नियमानुसार आरक्षण दिया जाएगा।

B.ed.-bachelor of education (ODL)

  • मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से B.Ed. व्यावसायिक कार्यक्रम है जो उच्च प्राथमिक ( कक्षा 6 से 8) माध्यमिक (कक्षा 9 10) तथा उच्च माध्यमिक (कक्षा 11-12) तक के अध्यापकों को तैयार करने के लिए है
  • इस कोर्स की अवधि भी 2 वर्ष है तथापि उम्मीदवार इसे 5 वर्षों में पूरा कर सकता है.
  • पात्रता : वह सेवारत अध्यापक जो किसी सरकारी अथवा मान्यता प्राप्त गैर सरकारी विद्यालय में कक्षा 1 से 8 तक में अध्यापन कार्य करता हो।
  • प्रारंभिक शिक्षा में प्रशिक्षित (डीएलएड या समकक्ष) या एनसीटीई से मान्यता प्राप्त प्रारंभिक शिक्षा में कोई 2 वर्षीय डिप्लोमा पूर्ण किया हो।

यह ODL Program उन व्यक्तियों के लिए है जो वर्तमान में शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत हैं जिन्होंने कोई विधिवत व्यावसायिक शिक्षा की डिग्री नहीं ली है. ऐसे व्यक्तियों को प्रशिक्षित करने के उद्देश्य से यह डिग्री कार्यक्रम चलाए जाते हैं भले ही वह government school teacher हों या निजी या अन्य किसी मान्यता प्राप्त शिक्षा संस्थान में कार्यरत हों।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें : कोटा ओपन से बीएड कर बनें शिक्षक

4 year integrated program BA. Bed/BSc.Bed degree

  • यह कार्यक्रम उच्च प्राथमिक एवं माध्यमिक स्तर के शिक्षकों हेतु है।
  • 4 वर्षीय एकीकृत कार्यक्रम बीए बीएड और Bsc.B.Ed. विज्ञान और मानविकी विषयों में यह कार्यक्रम संस्थानों में चलाया जाता है
  • इसकी अवधि 4 शैक्षणिक वर्ष है तथापि शिक्षक अभ्यर्थी इसे 6 वर्षों में पूरा कर सकते हैं।
  • अनुसूचित जाति जनजाति आदि विभिन्न वर्गों को राज्य सरकार के नियमानुसार आरक्षण दिया जाएगा।
  • कार्यक्रम में प्रवेश अर्हक परीक्षा प्राप्तांक या प्रवेश परीक्षा के माध्यम से दिया जाएगा।
  • पात्रता : उच्चतर माध्यमिक/+2 या समकक्ष परीक्षा में न्यूनतम 50% प्राप्तांक उत्तीर्ण अभ्यर्थी प्रवेश के लिए पात्र हैं आरक्षित वर्ग को संबंधित राज्य सरकार के अनुसार आरक्षण है।

B.Ed.(Part Time) बीएड अंशकालीन

  • शिक्षा में स्नातक (B.Ed.) यह कार्यक्रम उच्च प्राथमिक (कक्षा 6 से 8) माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक कक्षाओं के लिए अध्यापक तैयार करता है
  • यह कार्यक्रम उन सेवारत अध्यापकों के लिए है जो किसी उच्च प्राथमिक माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालय में सेवारत हैं.
  • विद्यालय के अध्यक्ष से सेवारत होने का प्रमाण पत्र प्राप्त करके इसमें प्रवेश ले सकते हैं
  • यह 3 वर्षीय कार्यक्रम है तथा अधिकतम 5 वर्ष की कार्य अवधि में पूरा करना होगा।
  • पात्रता : इस कार्यक्रम में प्रवेश लेने के लिए सामाजिक/मानविकी/ विज्ञान विषय में स्नातक उपाधि अथवा स्नातकोत्तर उपाधि या गणित और विज्ञान विषयों की विशेषज्ञता के साथ इंजीनियरी या प्रौद्योगिकी में न्यूनतम 50% प्राप्तांक प्राप्त व्यक्ति पात्र हैं।

3 वर्षीय एकीकृत बीएड-एमएड कार्यक्रम

  • इस कार्यक्रम की अवधि 3 वर्ष होगी और इसे अभ्यर्थी को 3 वर्षों में ही पूरा करना होगा.
  • यह कक्षा 6 से 12 तक के अध्यापकों, अनुसंधानकर्ताओं, प्रिंसिपल्स आदि के लिए होगा.
  • इस कार्यक्रम में प्रवेश लेने की न्यूनतम अनिवार्य योग्यता स्नातकोत्तर उपाधि में न्यूनतम 55% प्राप्तांक होने चाहिए.
  • इसमें प्रवेश का आधार अर्हक परीक्षा प्राप्तांक अथवा प्रवेश परीक्षा में प्राप्तांक होंगे।

बीएड एमएड इंटीग्रेटेड राजस्थान से कैसे करें

Diploma in art education(art visual)

  • कक्षा 8 तक दृश्य कलाएं पढ़ाने के लिए शिक्षक तैयार करने के लिए कला शिक्षा डिप्लोमा कार्यक्रम की अवधि 2 वर्ष होगी परंतु अभ्यर्थी को अधिकतम 3 वर्षों में इसे पूरा करना होगा।
  • पात्रता : जिन अभ्यर्थियों ने उच्चतर माध्यमिक कक्षाओं में वैकल्पिक विषय के रूप में दृश्य कला जैसे ड्राइंग पेंटिंग एंड क्राफ्ट ग्राफिक डिजाइन एंड्राइड कलाएं आदि में कम से कम 50% अंकों के साथ उच्च माध्यमिक या समकक्ष परीक्षा पास की हो वे इस कार्यक्रम में प्रवेश ले सकते हैं। आरक्षण आदि राज्य सरकार के नियमानुसार देय होगा।

तो साथियों यह सभी टीचर ट्रेनिंग कोर्स जिनके बारे में हमने जाना है यह सभी राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद से मान्यता प्राप्त हैं और इनमें डिप्लोमा या डिग्री लेने के बाद आप government school teacher के लिए अप्लाई कर सकते हैं. यदि आपको इन कोर्सेज के बारे में और अधिक प्रामाणिक जानकारी चाहिए तो नीचे NCTE के लिंक पर जाकर देख सकते हैं।

NCTE Minimum Qualification of Teachers

गवर्नमेंट टीचर कैसे बने के लिए जॉब

तो मित्रों ऊपर जिन teachers training courses का मैंने वर्णन किया है उनमें से कोई कोर्स पूरा करने के बाद आप भारत में कहीं भी government teachers vacancy में school teacher जॉब के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आप गवर्नमेंट टीचर कैसे बन सकते हैं और गवर्नमेंट टीचर के लिए विभिन्न राज्यों में क्या आवश्यक योग्यताएं हैं यह अलग-अलग राज्यों की वैकेंसी पर डिपेंड करता है परंतु एनसीटी के नियमानुसार एक गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए ऊपर वर्णित माप दंड आवश्यक हैं।

भारत के केंद्र सरकार के शिक्षण संस्थानों एवं अन्य राज्यों द्वारा government School में पदों को भरने के लिए विशाल संख्या में हर वर्ष school teacher की भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किए जाते हैं. आप इन पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

केंद्र और सभी राज्यों में सामान्यतया प्रतियोगी परीक्षा के द्वारा school teacher का चयन किया जाता है। प्रतियोगी परीक्षा में अच्छी तैयारी करके आप एक अच्छा और प्रतिष्ठित government job प्राप्त कर सकते हैं।

यदि आप राजस्थान में गवर्नमेंट टीचर बनना चाहते हैं तो राजस्थान में सभी श्रेणियों के गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए यह पोस्ट अवश्य पढ़ें। राजस्थान में गवर्नमेंट टीचर कैसे बने।

साइंस टीचर कैसे बने।

भूगोल टीचर कैसे बने

मैथ टीचर कैसे बने

कंप्यूटर टीचर कैसे बने

स्कूल लेक्चरर कैसे बने

कॉलेज व्याख्याता कैसे बने

राजस्थान में थर्ड ग्रेड टीचर कैसे बने

राजस्थान में सेकंड ग्रेड टीचर कैसे बने

इस लेख गवर्नमेंट टीचर कैसे बने आपने टीचर के लिए योग्यता, टीचर बनने केे लिए teacher training course, प्राइमरी टीचर ट्रेनिंग कोर्स, हाई स्कूल टीचर ट्रेनिंग कोर्स के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की और जाना कि किस तरह से diploma in elementary education, bachelor in education (B.Ed.) आदि विभिन्न कोर्सेज पूर्ण करके आप एक सरकारी अध्यापक बन सकते हैं। तो आपको यह लेख राजस्थान गवर्नमेंट टीचर कैसे बनेपसंद आया हो तो इसे अपने मित्रों के साथ शेयर अवश्य करें। धन्यवाद।

ऊपर वर्णित पोस्ट में गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए आवश्यक योग्यता और गवर्नमेंट टीचर बनने के लिए सभी शिक्षक प्रशिक्षण प्रोग्राम के बारे में जानकारी दी गई है Rajasthan government teacher Kaise bane यदि आप इस विषय में कोई भी सवाल पूछना चाहते हो तो कमेंट बॉक्स में अवश्य पहुंचे।