साइंस का टीचर(Science Teacher) कैसे बने संपूर्ण जानकारी

यदि आप साइंस में टीचर बनने के इच्छुक है तो इस पोस्ट को पूरा पढ़िए। आप साइंस विषय से विद्यालय स्तर पर अध्यनरत हैं या ग्रेजुएशन कर रहे हैं या पोस्ट ग्रेजुएशन। आपको यह अवश्य जानना चाहिए कि साइंस का टीचर कैसे बने हैं।

साइंस टीचर

यदि आपके पास भी साइंस विषय है या साइंस सब्जेक्ट लेने के इच्छुक हैं और भविष्य में अध्यापक बनना चाहते हैं तो तो यह पोस्ट ध्यान से पढ़ें इसमें मैंने Science teacher Kaise bane पर विस्तारपूर्वक बताया है और इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप अच्छी तरह से समझ जाएंगे कि साइंस विषय में शिक्षक बनने के लिए क्या करना है।

साइंस का टीचर कैसे बने

  • 12वीं के बाद बीएसटीसी करके साइंस टीचर बने
  • बीएससी बीएड साइंस टीचर बने
  • M.Sc. के बाद साइंस टीचर बने
  • स्कूल लेक्चरर साइंस सब्जेक्ट से
  • Science तथा राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (NET) करके यूजीसी लेक्चरर बने।

विज्ञान विषय बहुत ही स्कोप वाला विषय है और विज्ञान के विद्यार्थियों के लिए दूसरे विषयों के मुकाबले में अधिक अवसर उपलब्ध होते हैं। यदि आपकी रुचि अध्यापक बनने में है तो आप विज्ञान विषय में ग्रेजुएशन करने के बाद किसी शिक्षण संस्थान से अध्यापक प्रशिक्षण प्राप्त कर इसके लिए पात्र हो सकते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि केंद्र और राज्य सरकारों के द्वारा शिक्षकों की भर्ती की जाती है और अच्छा वेतन दिया जाता है परंतु विज्ञान और गणित जैसे विषयों की प्राइवेट शिक्षण संस्थानों में भी बहुत डिमांड रहती है।

विज्ञान के शिक्षकों को कला विषयों के शिक्षकों के मुकाबले में उच्चतर वेतन दिया जाता है यही नहीं कोचिंग क्लासेज आदि में भी विज्ञान और गणित के अच्छे शिक्षकों को जॉब मिलना आसान रहता है और अच्छा वेतन प्राप्त होता है।

साइंस का टीचर कैसे बने

Science Teacher बनने के लिए साइंस स्ट्रीम में अध्ययन करना आवश्यक है। साइंस विषय में अच्छी दक्षता प्राप्त करने के साथ-साथ टीचर ट्रेनिंग कोर्स तथा साइंस में डिप्लोमा या डिग्री प्राप्त करके साइंस टीचर बन सकते हैं।

विज्ञान विषय से शिक्षक बनने के लिए यह आवश्यक है कि आप कक्षा 10 के बाद विज्ञान संकाय का चुनाव करें। 11वीं कक्षा में प्रवेश लेते समय आपको विज्ञान संकाय के विषयो का चुनाव करना होता है। प्राय 11वीं कक्षा में विज्ञान संकाय के निम्न विषय सम्मिलित होते हैं-

  1. भौतिक विज्ञान (Physics)
  2. रसायन विज्ञान (Chemistry)
  3. गणित (Mathematics)/जीव विज्ञान (Biology)

भौतिक विज्ञान और रसायन विज्ञान  कॉमन होते हैं जबकि गणित या जीव विज्ञान में से आपको एक विषय का चुनाव करना पड़ता है। यदि आपकी रूचि गणित में हो तो गणित लें अन्यथा विज्ञान विषय के अध्यापक बनने के लिए जीव विज्ञान का अध्ययन करें। गणित अध्यापक बनने के लिए यह पोस्ट पढ़ें

Math Teacher (गणित अध्यापक) कैसे बने

इस तरह से विज्ञान के इन विषयों से 10+2 करने के बाद आप चाहें तो D.el.ed (diploma in elementary education) करके प्राथमिक कक्षाओं के शिक्षक बन सकते हैं। परंतु हाई स्कूल मैं साइंस टीचर बनने के लिए आपको विज्ञान विषय में ग्रेजुएशन करना होगा।

12वीं के बाद साइंस में टीचर कैसे बने

10+2 करने के बाद विज्ञान विषय में अध्यापक बनने के लिए बीएससी विज्ञान विषयों के साथ करना होगा। बीएससी में विज्ञान वर्ग के कोई भी तीन विषय लिए जा सकते हैं।

आप वनस्पति विज्ञान जीव विज्ञान रसायन विज्ञान आदि में कोई विषय ले सकते हैं और बीएससी कंप्लीट कर सकते हैं।

विज्ञान के इन विषयों में अच्छा अध्ययन करें क्योंकि बीएससी करने के बाद शिक्षक प्रशिक्षण डिग्री पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने के लिए न्यूनतम प्राप्तांक प्रतिशत की अनिवार्यता लागू की गई है।

केंद्र एवं विभिन्न राज्य सरकारों के टीचर भर्ती नियमों में ग्रेजुएशन में न्यूनतम ग्रह प्राप्तांक प्रतिशत प्राप्त करना अनिवार्य रखा गया है। सामान्य श्रेणी के आवेदकों के लिए न्यूनतम परीक्षा प्राप्तांक 50% होने चाहिए। विभिन्न राज्यों में नियमानुसार आरक्षित वर्गों को पांच प्रतिशत की छूट दी गई है।

विज्ञान विषय में ग्रेजुएशन करने के बाद साइंस टीचर बनने के लिए कोई अध्यापक प्रशिक्षण डिग्री पाठ्यक्रम उत्तरण करना होगा।

B.SC. के बाद साइंस टीचर कैसे बने

साइंस में B.Sc. पूर्ण करने के बाद साइंस टीचर बनने के लिए Teacher Training Course करना होगा। यह टीचर ट्रेनिंग कोर्स स्नातक स्तरीय होना चाहिए जैसे B.Ed.(Bachelor of education)

यह अध्यापक प्रशिक्षण कोर्स कम से कम 2 वर्ष की अवधि का होना चाहिए। यह भारत या किसी राज्य सरकार संबंधित विश्वविद्यालय एवं एनसीटीई से मान्यता प्राप्त होना चाहिए।

B.Sc. और बीएड या उसके समकक्ष कोई अन्य अध्यापक प्रशिक्षण डिग्री पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद आप साइंस टीचर बनने के योग्य हो जाते हैं। परंतु किसी सरकारी विद्यालय में Government Science Teacher आवेदन करने के लिए आपको एक और चरण से गुजरना होगा।

आपको केंद्रीय या राज्य की अध्यापक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी।

अध्यापक पात्रता परीक्षा (Teacher Eligibility Test) पूर्ण करें

विभिन्न राज्यों द्वारा अध्यापक पात्रता परीक्षा आयोजित की जाती है। आप जिस राज्य से संबंधित भर्तियों के लिए आवेदन करना चाहते हैं, उस राज्य द्वारा आयोजित अध्यापक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करना होगा।

यदि आप केंद्रीय अध्यापक भर्ती परीक्षाओं जैसे केवीएस के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो आपको केंद्र द्वारा आयोजित सीटेट (Central Teacher Eligibility Test) करना होगा।

इन अध्यापक पात्रता परीक्षा का विभिन्न राज्यों के अनुसार अलग-अलग पाठ्यक्रम होता है। सामान्यतः सामान्य हिंदी, सामान्य अंग्रेजी, सामान्य विज्ञान एवं विषयों से संबंधित प्रश्नपत्र होता है।

ऊपर वर्णित योग्यताएं प्राप्त करने के बाद आप किसी भी प्राइवेट शिक्षण संस्थान में साइंस विषय पढ़ा सकते हैं। छात्रों को कोचिंग क्लास दे सकते हैं। यहां यह ध्यान देने योग्य है कि प्राइवेट संस्थान में साइंस टीचर के लिए अध्यापक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक नहीं है परंतु सरकारी भर्तियों के लिए आवेदन करने हेतु यह अनिवार्य योग्यता है।

साइंस टीचर कैसे बनते हैं

तो इस तरह से आपको साइंस टीचर बनने के लिए यह करना होगा-

  • साइंस सब्जेक्ट से B.Sc. करें
  • b.ed या अन्य कोई टीचर ट्रेनिंग कोर्स करें
  • अध्यापक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करें
  • साइंस टीचर भर्ती के लिए आयोजित परीक्षा में मेरिट लिस्ट में स्थान प्राप्त करें

विभिन्न कक्षाओं को अध्यापन कराने के आधार पर शिक्षकों को विभिन्न श्रेणियों में विभाजित किया गया है। उसी के अनुसार उनका पद नाम, योग्यता, भर्ती प्रक्रिया, वेतन आदि निर्धारित किया जाता है।

सामान्यतः कक्षा 6 से 12 तक के विद्यार्थियों को पढ़ाने वाले शिक्षकों को विषय अध्यापक कहा जाता है। तो इन के संबंध में इनकी योग्यता आदि के बारे में विस्तार से जानते हैं।

प्राथमिक कक्षाओं के लिए विज्ञान अध्यापक

कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों अध्यापन कराने वाले शिक्षकों को तृतीय श्रेणी (third grade teacher) अध्यापक कहते हैं।

इस पद के लिए आवश्यक योग्यता विज्ञान विषयों के साथ बीएससी, बीएड एवं अध्यापक पात्रता परीक्षा में उत्तीर्ण होना चाहिए। इन निर्धारित योग्यताओं को प्राप्त करने के बाद अभ्यर्थी विज्ञान विषय में तृतीय श्रेणी शिक्षक के लिए पात्र हो जाते हैं।

माध्यमिक कक्षाओं के लिए विज्ञान टीचर

माध्यमिक अर्थात कक्षा 9 एवं 10 को पढ़ाने वाले शिक्षकों को द्वितीय श्रेणी (second grade teacher) या वरिष्ठ अध्यापक कहते हैं।

विज्ञान विषय के वरिष्ठ अध्यापक पद के लिए विज्ञान में ग्रेजुएशन, बीएड एवं अध्यापक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण होना आवश्यक है। केंद्रीय विद्यालय में वरिष्ठ अध्यापक जिसे TGT(trained graduate teacher) कहते हैं के लिए यह आवश्यक योग्यता है। पढ़ें

केंद्रीय विद्यालय में टीजीटी टीचर कैसे

हालांकि कई राज्यों में वरिष्ठ अध्यापक बनने के लिए अध्यापक पात्रता परीक्षा (Teacher Eligibility Test) उत्तीर्ण करना आवश्यक नहीं है।

हाई स्कूल या उच्च माध्यमिक कक्षाओं के लिए साइंस टीचर

कक्षा 11 एवं 12 के विद्यार्थियों को पढ़ाने वाले हाई स्कूल टीचर को प्रथम श्रेणी व्याख्याता या स्कूल लेक्चरर के नाम से जाना जाता है।

इस पद के लिए आवश्यक योग्यता साइंस में पोस्ट ग्रेजुएशन, एवं बीएड होना आवश्यक है। विद्यालयों में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान विषय के पद होते हैं अतः अभ्यर्थी को संबंधित विषय में पोस्ट ग्रेजुएशन/एमएससी उत्तीर्ण किया हुआ होना चाहिए।

तो अब आप समझ गए होंगे कि साइंस टीचर कैसे बने और विज्ञान के अध्यापक के लिए कौन सा कोर्स करना पड़ता है।


Comments

6 responses to “साइंस का टीचर(Science Teacher) कैसे बने संपूर्ण जानकारी”

  1. Asjad Ali Avatar
    Asjad Ali

    Sir post graduation bad men Kar sakte hai middle school men teacher banne ke bad

    1. मनोहर सिंह शेखावत Avatar
      मनोहर सिंह शेखावत

      Yes.kabhi bhi kar sakte hai

  2. Shivani Avatar
    Shivani

    I had dout about my futur but now study this article I have no doubt about it thanks for give such more information

  3. Pooja Avatar
    Pooja

    Kya tgt ka science teacher banne ke bad post graduation lar skte h

  4. I want a science teacher is 1#th

  5. asma Avatar
    asma

    thanks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *